Categories
News

पति की मौ’त के बाद बन गईं कुली, अपनी कमाई से बच्चों का पेट पाल रही हैं बुंदेलखंड की संध्या….

खबरें

बुंदेलखंड की बेटी संध्या मारावी ने कुली बनकर महिला सशक्तीकरण का शानदार उदाहरण पेश किया है. मध्य प्रदेश के कटनी रेलवे स्टेशन पर 65 पुरुष कुलियों के बीच अकेली महिला कुली के रूप में जिस तरह से वो काम कर रही हैं, वो उनके अदम्य साहस को दिखाता है. मिली जानकारी के मुताबिक 2015 तक संध्या की जिंदगी में लगभग सब ठीक था. अपने पति और बच्चों के साथ वो हंसी-खुशी रह रही थीं.

पति पेशे से मज़दूर थे, लेकिन दाल-रोटी चल रही थी. मगर, 2016 में पति के नि’धन के बाद सबकुछ बदल गया. एकदम से संध्या के कंधों पर घर की पूरी जिम्मेदारी आ गई. उनके सामने घर का खर्च चलाने की बड़ी चुनौती थी. इस मुश्किल समय का संध्या ने मजबूती से सामना किया और तय किया कि वो कुली बनेंगी. आगे समाज की चिंता किए बिना उन्होंने अपने कदम बढ़ाए और 2017 में अपना काम शुरू कर दिया.

आज संध्या इलाके भर के लिए प्रेरणा का स्रोत हैं. वो काम के लिए रोज घर से करीब 45 किलोमीटर का सफर तय कर कटनी रेलवे स्टेशन पहुंचती हैं, ताकि अपने बच्चों को पढ़ाकर उनका भविष्य सुधार सकें.