Categories
Other

छुट्टी चाहिए थी तो छात्रों ने डीएम का फर्जी लेटर कर दिया वायरल


होमवर्क पूरा न करने पर बहाना मारकर स्कूल से छुट्टी मारते आपने कई बच्चों को देखा होगा लेकिन नोएडा से एक अजीब-ओ-गरीब मामला सामने आया है. जहां दो छात्रों ने छुट्टी के लिए डीएम के आदेश वाला फर्जी पोस्ट शेयर कर दिया जिसके बाद पूरे शहर में हड़कंप मच गया.


आपको बता दें कि जांच के बाद सोमवार रात सेक्टर-12 स्थित राजकीय इंटर कॉलेज के 2 छात्रों को पकड़ा गया है. छात्रों ने हुई पूछताछ में बताया गया कि उन्होंने मस्ती करने के लिए डीएम गौतमबुद्धनगर का अवकाश से संबंधित फर्जी मेसेज लिखकर वायरल कर दिया था. इस विषय पर पुलिस का कहना है कि छात्रों को दिया गया प्रैक्टिकल का काम पूरा नहीं होने के कारण 23 और 24 दिसंबर की छुट्टी का फर्जी आदेश वायरल कर दिया था. ये आदेश एडिट करके वायरल किया गया जो पिछले हफ्ते का था, जब ठंड और संशोधित नागरिकता कानून के चलते स्कूलों को बंद किया गया था।

डीएम की एक पुरानी पोस्ट को एडिट कर 2 दिन की छुट्टी का आदेश सोशल मीडिया पर वायरल करने के मामले में सेक्टर-20 पुलिस ने पकड़े गए 12वीं के 2 छात्रों को मंगलवार को जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के सामने पेश किया था जहां से उन्हें बाल सुधार गृह में भेजा गया है.

जिसके विरोध में स्कूल के 100 से अधिक छात्र सेक्टर-27 के डीएम कैंप ऑफिस पर दोनों छात्रों को माफ करने की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए. जिसके बाद कैंप ऑफिस पर रोते बिलखते छात्रों ने कान पकड़कर उन दो छात्रों को माफ करने की गुहार लगाई.

आपको बता दें कि डीएम का फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाकर रविवार को एक लेटर पोस्ट किया गया था. जिससे पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों में हड़कंप मच गया था. जिसके बाद डीएम बीएन सिंह ने नोटिस जारी करके बताया था कि उन्होंने कोई लेटर जारी नहीं किया है. जिसके बाद एसएसपी ने सेक्टर-20 थाना पुलिस को जांच के आदेश दिए थे.


पुलिस ने बताया कि दोनों छात्रों को फेज-2 स्थित बाल सुधार गृह भेज दिया गया है. जिसके बाद विरोध कर रहे सभी छात्र डीएम कैंप ऑफिस पहुंच गए और अपने कान पकड़कर घंटों बैठे रहे. वे छात्र रोते हुए बार-बार कह रहे थे कि डीएम अंकल खेल-खेल में गलती हो गई, माफ कर दो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.