Categories
News

म’हिलाओं के लि’ए मो’दी स’रकार ने कि’या ब’ड़ा फाय’दा, ख’बर प’ड़ महि’लाएं खु’शी से…..

ताजा खबर

न’ई दि’ल्ली: पैतृ’क सं’पत्ति में बंट’वारे को ले’कर सु’प्रीम को’र्ट ने आ’ज ए’क अह’म फैस’ला सुना’या है. दे’श की सब’से ब’ड़ी अदा’लत ने पै’तृक संप’त्ति में बेटि’यों को भी ब’राबर का भा’गीदार मा’ना है. ज’स्टिस अरु’ण मि’श्र की बें’च ने फै’सला सु’नाते हु’ए ए’क अह’म टि’प्पणी की. को’र्ट ने क’हा कि बेटि’यां हमे’शा बे’टियां रह’ती हैं. बे’टे तो ब’स वि’वाह त’क ही बे’टे रह’ते हैं.

को’र्ट ने अप’ने फै’सले में क’हा कि ये उत्तरा’धिकार का’नून 2005 में सं’शोधन की व्या’ख्या है. इ’स संशो’धन से प’हले भी का’नून क’हता था कि अ’गर कि’सी लड़’की के पि’ता की मृ’त्यु हो ग’ई है त’ब भी संप’त्ति में उ’से बे’टों के ब’राबर का हि’स्सा ही मि’लेगा.

विवा’ह से कु’छ भी ले’ना दे’ना न’हीं- सु’प्रीम को’र्ट

ब’ता दें कि अ’भी त’क य’ह स्प’ष्ट न’हीं था कि अ’गर 2005 से पह’ले कि’सी ल’ड़की या म’हिला के पि’ता की मृ’त्यु हु’ई हो तो ऐ’सी स्थि’ति में क्या हो’गा. सु’प्रीम को’र्ट के आ’ज के फै’सले से इ’से लेक’र वि’वाद ख’त्म हो ग’या. सु’प्रीम को’र्ट ने य’ह भी सा’फ कर दि’या कि इस’का वि’वाह से कु’छ भी ले’ना दे’ना न’हीं है.