Categories
Other

सुषमा स्वराज की पहली जयंती पर मोदी सरकार ने किया ये बड़ा ऐलान

पूर्व विदेश मंत्री और भाजपा की दिवंगत नेता सुषमा स्वराज की ये पहली जयंती है. आपको बता दें कि उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए विदेश मंत्रालय ने एक अनूठी पहल शुरू की है. जानकारी के मुताबिक केंद्र सरकार ने दिल्ली के प्रवासी भारतीय केंद्र का नाम बदलकर सुषमा स्वराज भवन और विदेश सेवा संस्थान का नाम सुषमा स्वराज विदेश सेवा संस्थान करने का फैसला किया है.

बता दें कि पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की जयंती 14 फरवरी यानी की कल है. आपको बता दें कि उनका जन्म 14 फरवरी, 1952 को हरियाणा के अंबाला में हुआ था. उनका पिछले साल 6 अगस्त को निधन हो गया था . उनकी उम्र तब सिर्फ 67 साल थी. जानकारी के अनुसार स्वराज ने दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में अपनी आखिरी सांस ली थी.

विदेश मंत्रालय के मुताबिक उन्होंने जो भी काम किए थे और विदेश मंत्री के पद पर शानदार सेवा करने के लिए सम्मान के तौर पर ये फैसला लिया गया है. आपको बता दें कि सुषमा स्वराज विदेश मंत्री रहते हुए काफी लोकप्रिय थी. वो युवाओं में एक पसंदीदा नेता के रूप में याद की जाती है. 

वहीं विदेश मंत्रालय ने आज यहां कहा कि भारतीय राजनय और प्रवासी भारतीय समुदाय के कल्याण के लिए उल्लेखनीय योगदान को स्मरण करते हुए स्वराज के 14  फरवरी को जन्म दिन के अवसर पर प्रवासी भारतीय भवन का नाम सुषमा स्वराज भवन तथा विदेश सेवा संस्थान का नाम सुषमा स्वराज विदेश सेवा संस्थान करने का फैसला किया गया है. सुषमा स्वराज ने अपने कार्यकाल के दौरान विदेश में फंसे कई भारतीयों की मदद की थी. उन्हें कोई एक ट्वीट कर देता था तो उसके जवाब में भी लोगों की मदद करने के लिए को हमेशा तैयार रहती थीं।