Categories
News

वैक्सी’न लगवाने के बाद न करें ऐसी गलती, जा’न पर पड़ सकती है भारी….

हिंदी खबर

नई दिल्ली. अगर कोरो’ना की वैक्सी’न लगवाने के बाद आप भी ये सो’च रहे हैं कि आप कोरो’ना से सुरक्षित हैं और आपको साव’धानी बर’तने की जरू’रत नहीं, तो ये आपकी गलत’फहमी है. इससे आप अपनी जान तो जो’खिम में डा’ल ही रहे हैं, लेकिन उन लोगों को भी बी’मार कर सकते हैं जो आपके बेह’द करीब हैं. अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया ने अपनी एक रि’पोर्ट में दा’वा किया है कि पश्चिम बंगाल में कोरो’ना वैक्सी’न की पहली डो’ज लगवाने वाले लोग ही महा’मारी के साइलें’ट स्प्रेड’र बन रहे हैं. रि’पोर्ट के मुता’बिक डॉ’क्टर्स और वैज्ञानिकों ने इस बात को लेकर चिं’ता भी जा’हिर की है. साइलेंट स्प्रेडर उन लोगों को कहा जाता है जो खुद तो को’रोना का शि’कार होते हैं लेकिन उन्हें एसिम्प’टोमेटिक होने की वज’ह से इस बात का पता भी नहीं चलता कि वो कितने लोगों की जान रि’स्क में डा’ल रहे हैं. बंगाल में इस तरह के तमा’म केसे’ज सामने आए हैं, जिसमें वैक्सी’न लगवाने के कुछ दिन बाद लोगों में कोरो’ना के ल’क्षण नजर आए और टेस्ट की रिपो’र्ट भी पॉजि’टिव रही. वे खुद एंटीबॉ’डी की व’जह से ब’च गए लेकिन डॉक्ट’र्स को ऐसे के’सेज में चिं’ता उन लोगों की है जो इस तरह के मरी’जों के सं’पर्क में आकर संक्र’मित हुए और उन्हें पता भी नहीं चला.

इजराइल की एक स्ट’डी में ये बात सामने आई थी कि वैक्सी’न लगने के बाद भी लोग को’रोना वाय’रस की दूसरी तरह की स्ट्रे’न की चपे’ट में आ रहे हैं. इसके पीछे की वज’ह विशेषज्ञों ने वैक्सी’नेशन के बाद जल्दी ही मा’स्क और अन्य सावधा’नियों को छो’ड़ देना माना है या फिर ऐसा भी हो सकता है कि वैक्सी’नेशन सेंटर पर अपनी बारी का इं’तजार करते हुए वे वाय’रस की चपे’ट में आए हों.

जिन्हें वैक्सी’न नहीं लगी, वे हुए ज्या’दा बीमार
रि’पोर्ट ये भी कहती है कि अस्पता’ल में भ’र्ती होने वाले ज्यादातर म’रीज वे हैं, जिन्हें वैक्सी’न का शॉट अभी नहीं लगा है. कई मा’मलों में डॉक्ट’र्स ने आशं’का जाहिर की है कि मरी’जों को परिवार के उन स’दस्यों से संक्रम’ण हुआ है, जिन्हें वैक्सीने’शन के बाद भी कोरो’ना हुआ लेकिन उनमें लक्ष’ण नहीं दिखाई दिए.