Categories
Other

जब ट्रैफिक हवलदार ने रोक दी मोदी की कार, जानिए फिर क्या हुआ ?

जब ट्रैफिक हवलदार ने रोक दी मोदी की कार, जानिए फिर क्या हुआ ? दोस्तों  ये किस्सा बहुत प्रचलित है चलिए आपको बताते है एक बार हमारे देश की पहली महिला आईपीएस किरण बेदी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की दिल्ली में गलत जगह खड़ी कार को क्रेन से उठवा दिया था. तबसे मीडिया में उनका नाम ‘क्रेन बेदी” पड़ गया था. ऐसा ही एक किस्सा वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी जुड़ा हुआ है.

ये उस समय की बात है जब मोदी भाजपा प्रभारी थे और अटल बिहारी वाजपेयी भारत के प्रधानमंत्री थे और ये घटना मोदी के पीएम बनने से बहुत पहले की है. एक बार मोदी भोपाल जा रहे थे तो ट्रैफिक हवलदार ने उनकी कार रोक दी. बदले में मोदी ने गाड़ी रोक कर ट्रैफिक हवलदार को शाबासी देकर हौसला अफजाई की थी.

आपको बता दें कि हुआ यूं था कि सन् 1998 में मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव चल रहे थे और जगदलपुर में उस समय के प्रधानमंत्री अटल वाजपेयी की सभा थी. जिस सभा में भाजपा प्रभारी नरेंद्र मोदी भी पहुंचे थे. मोदी भी उनके साथ सभा में मौजूद थे. सभा के बाद नरेंद्र मोदी को भोपाल आना था, इसलिए वे रायपुर से एक छोटे विमान में सवार होकर भोपाल हवाई अड्डे पर उतरे तो वहां से भाजपा कार्यालय द्वारा भेजी गई एम्बेसेडर में सवार होकर वो आगे बढ़े.

रास्ते में हमीदिया अस्पताल के पास अचानक ट्रैफिक हवलदार ने उनकी कार रोक दी. क्योंकि उस समय मध्य प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का काफिला निकल रहा है जिस वजह से ट्रैफिक रोका गया था. तब नरेंद्र मोदी भी कम कद्दावर नेता नहीं थे इसलिए उनके ड्राइवर ने हवलदार से कहा था कि ‘कार में भाजपा प्रभारी नरेंद्र मोदी बैठे हैं।” लेकिन उसके बाद भी हवलदार टस से मस नहीं हुआ और उसने कार को आगे नहीं जाने दिया.

मोदी सब कुछ चुपचाप गंभीरता पूर्वक बैठ कर देखते रहे. मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के काफिले के गुजरने के बाद ही हवलदार ने ट्रैफिक खोला. काफिला गुजरने के बाद कार को किनारे रुकवाकर मोदी जी कार से उतरे और उस हवलदार को उसका कर्त्तव्य सही ढंग से पूरी निष्ठा के साथ निभाने के लिए शाबासी भी दी. मोदी ने हवलदार के साथ हाथ भी मिलाया और उससे कहा कि उन्हें बेहद ख़ुशी हुई

Leave a Reply

Your email address will not be published.