Categories
Other

रेल में सफ़र करते हैं तो इन 11 चीज़ों को जरूर ध्यान में रखें

रेल में सफ़र करते हैं तो इन 11 चीजों को जरूर याद कर लीजिए, नहीं तो आपको परेशानी उठानी पड़ सकती है.दोस्तों भारत में अक्सर रेल हादसे होते रहते है. इन हादसों को तो रोका नहीं जा सका, लेकिन आप रेल से सफर के दौरान कुछ बातें याद रखकर शारीरिक और आर्थिक नुकसान को काफी हद तक कम कर सकते हैं. भारत समेत कई देशों में राहत कार्य करने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था इंटरनेशनल सिविल डिफेंस ऑर्गनाइजेशन (ICDO) ने ऐसे हादसे होने से पहले, हादसे के वक्त और होने के बाद कुछ सावधानी बरतने की सलाह दी है्. आइए दोस्तों आपको बताते है कि क्या कुछ कर सकते है आप इन हादसों से बचाने के लिए….

सफर से पहले करें ये तैयारी :
दोस्तों रेल हो या चाहे हवाई सफर, ट्रैवलिंग शुरू करने से पहले इन परिवहन साधनों से जुड़े हर तरह के संभावित खतरे के बारे में जानकारी हासिल कर लें. रेल कोच में कई पोस्टर लगे होते हैं. इनमें अनहोनी की स्थ‍िति में क्या किया जाना चाहिए, इसके बारे में दिया होता है. इसलिए इन्हें जरूर पढ़ें और ध्यान रखें. दोस्तों हो सकें तो अपने रूट की पूरी जानकारी हासिल कर लें. ये पता कर लें कि उस रूट पर कितने स्टेशन हैं और एक-दूसरे से कितनी दूरी पर हैं. इसके साथ ही अस्पताल व अन्य किसी भी जरूरी चीज की जानकारी प्राप्त कर लें.

हादसे के वक्त ये चीजें ज़रूर ध्यान में रखें
हादसे की स्थिति में रेल परिचालक और कर्मचारियों के निर्देशों पर ध्यान दें. हादसे से बचने के लिए या फिर नुकसान कम करने के लिए वे जो भी निर्देश दें, उन्हें समझें और अपनाएं. आपको बता दें कि आप जब भी IRCTC की वेबसाइट से टिकट बुक करते हैं, तो आपके पास बीमा कवर लेने का विकल्प भी होता है. इसे आप महज 92 पैसे में ले सकते हैं. इसलिए इसे कभी न छोड़ें.

दोस्तों अगर आपके साथ कोई ट्रेन दुर्घटनाग्रस्त हो जाती है, तो आपको सबसे पहले दुर्घटनाग्रस्त कोच से बाहर निकलने की कोशिश करनी चाहिए. ये चाज़ें तब और भी ज्यादा अहम हो जाता है, जब वहां आग लगने और गैस लीकेज का खतरा हो. आपको सुरक्षित जगह पर पहुंचकर इमरजेंसी नंबर्स पर फोन कर लेना चाहिए. इससे आप अपने लिए और दूसरे घायलों के लिए मदद बुला सकते हैं.

हादसे के दौरान अगर आप चल-फिर सकने की स्थ‍िति में हैं, तो दोस्तों आप दूसरों की मदद कर सकते हैं. ऐसी स्थ‍िति में खुद को शांत रखें और घायलों की मदद करने की कोशिश करें.

हादसे के बाद आप क्या कर सकते है
अगर आप हादसे के दौरान घायल हो गए है तो अस्पताल में डॉक्टर को अपने स्वास्थ्य से जुड़ी हर तरह की मेडिकल कंडीशन के बारे में जानकारी जरूर दें.तभी वो आपकी पूरी तरह से मदद कर सकेंगे. इलाज के दौरान आपको जो भी मेडिकल रिपोर्ट्र्स और अन्य दस्तावेज मिले है उसे संभाल कर रखना आपकी जम्मेदारी है. ये दस्तावेज आपकी मदद करेगें. दोस्तों अगर आपने ऑनलाइन टिकट बुक किया है और इंश्योरेंस का विकल्प लिया था तो आप इसे क्लेम करने की प्रोसेस शुरू कर सकते है.

दोस्तों आज हम आपको बताएंगे कि भारतीय रेलवे आपको क्या अधिकार देती है. इन अधिकारों का आप जरूरत आने पर यूज कर सकते हैं. इन अधिकारों का यूज करने से आपको कोई भी अधिकारी या कर्मचारी नहीं रोक सकता. आपको बता दें कि कन्फर्म तत्काल टिकट तो वैसे आप कैंसल नहीं कर सकते, लेकिन कुछ विशेष परिस्थतियों में आप इसके बदले रिफंड ले सकते हैं.


चलिए दोस्तों आपको बताते है कि आप इन वजहों से कैसे कर सकते हैं रिफंड.  
अगर ट्रेन तीन घंटे से ज्यादा लेट होती है और आप उसमें सफर नहीं करते तो आप रिफंड कर सकते है.
अगर बंद, रेल रोको और बाढ़ समेत अन्य किसी वजह से ट्रेन कैंसल होती है, तो आपको रिफंड मिलेगा
– ट्रेन को डायवर्टेड रूट पर चलाया जाता है और आपका स्टेशन उस रूट पर नहीं पड़ता, तो रिफंड देना होता है.

दोस्तों क्या आपको पता है कि आपके टिकट पर फैमिली मेंबर कर सकता है सफर :
आपके कन्फर्म टिकट पर आपके माता-पिता, भाई, बहन, बेटा, बेटी और आपकी पत्नी सफर कर सकती है. इसके लिए आपको केवल टिकट ट्रांसफर करना होगा. इसके लिए आपको 24 घंटे पहले चीफ रिजर्वेशन सुपरवाइजर के पास रिक्वेस्ट देनी होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.