Categories
News

पी’एम मो’दी ने ब’ताया: कि’सने भार’तीय महि’लाओं को उ’ल्टे प’ल्लू की सा’ड़ी पह’नना सि’खाया, जा’नकर चौं’क जाएं’गे आ’प…

हिंदी खबर

नई दि’ल्ली। गुरु’वार को प्रधान’मंत्री नरें’द्र मो’दी (PM Narendra Modi) ने वी’डियो कॉन्फ्रें’सिंग के जरि’ए प’श्चिम बंगा’ल (West Bengal) के शांति’निकेतन (Shantiniketan) में वि’श्व-भा’रती विश्ववि’द्यालय (VisvaBharati University) के श’ताब्दी समा’रोह को सं’बोधित कि’या हैं। का’र्यक्रम को सं’बोधित कर’ते हु’ए पी’एम मो’दी ने क’हा कि विश्व’विभारती के 100 व’र्ष हो’ना प्रत्ये’क भार’तीय के गौ’रव की बा’त है। मे’री लि’ए भी ये सौ’भाग्य की बा’त है कि आ’ज के दि’न इ’स तपो’भूमि का पु’ण्य स्मर’ण क’रने का अवस’र मि’ल र’हा है। व’हीं इ’स स’मारोह में प’श्चिम बंगा’ल के राज्यपा’ल जग’दीप धन’खड़ औ’र कें’द्रीय शि’क्षा मं’त्री र’मेश पोख’रियाल नि’शंक भी मौ’जूद रहे। ब’ता दें कि सा’ल 1921 में रवींद्र’नाथ टै’गोर द्वा’रा स्था’पित, विश्वभा’रती दे’श का सब’से पु’राना कें’द्रीय विश्वविद्या’लय भी है।

इ’स दौ’रान पी’एम मो’दी ने रोच’क जान’कारी दे’ते हु’ए बता’या कि आखि’र म’हिलाओं को कि’सने उ’ल्टे प’ल्लू की सा’ड़ी पह’नना सि’खाया या क’ब से महि’लएं उ’ल्टे प’ल्लू का प्र’योग क’रने ल’गीं। पीए’म मो’दी ने क’हा कि, गुरु’देव रवींद्र’नाथ टैगो’र (Rabindranath Tagore) के ब’ड़े भा’ई औ’र दे’श के पह’ले आई’सीएस अ’फसर सत्येंद्र’नाथ टैगो’र की प’त्नी ज्ञानं’दिनी दे’वी ने ब’ताया था। उन्हों’ने ही बा’एं कं’धे प’र महि’लाओं को सा’ड़ी का प’ल्लू बां’धना सि’खाया।

पी’एम मो’दी ने क’हा, गुरु’देव रवींद्र’नाथ के ब’ड़े भा’ई सत्यें’द्रनाथ की आई’सीएस अफ’सर के रू’प में नि’युक्ति गुज’रात के अहम’दाबाद में हु’ई थी। सत्यें’द्रनाथ की प’त्नी ज्ञानं’दिनी जी अह’मदाबाद में रह’तीं थीं। स्थानी’य महि’लाएं दा’हिने कं’धे प’र प’ल्लू र’खतीं थी, जि’ससे महिला’ओं को का’म क’रने में परे’शानी हो’ती थी। ज्ञानं’दिनी दे’वी ने आइडि’या नि’काला- क्यों न प’ल्लू बा’एं कं’धे प’र लि’या जा’ए।

पी’एम मो’दी ने क’हा, अ’ब मु’झे ठी’क-ठी’क तो न’हीं प’ता लेकि’न कह’ते हैं- बा’एं कं’धे प’र सा’ड़ी का प’ल्लू उ’न्हीं (ज्ञानं’दिनी दे’वी) की दे’न है। वी’मेन इंपा’वरमेंट से जु’ड़े संग’ठनों को इ’स बा’त का अध्य’यन कर’ना चा’हिए।