Categories
Other

तापमान में गिरावट से बढ़ेगा कोरोना वायरस का खतरा? जानिए क्या है वजह

दिल्ली एनसीआर के साथ पूरे उत्तर भारत के ज्यादातर इलाकों में गुरुवार को हुई बारिश के कारण तापमान में गिरावट हुआ है. अब इस सब के बीच भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के प्रमुख डॉ बलराम भार्गव ने कहा है कि मौसम के बदले मिजाज का कोरोना वायरस की सक्रियता पर कोई खास असर नहीं होगा.

आपको बता दें कि दिल्ली सहित पूरे देश के अन्य इलाकों में अब तक कोरोना वायरस के संक्रमण के 30 मामलों की पुष्टि हो चुकी है. इसी को लेकर डॉ भार्गव ने बताया है कि तापमान में गिरावट का कोरोना वायरस के संक्रमण की गति बढ़ने से कोई संबंध नहीं है. साथ ही उन्होंने तापमान में गिरावट से कोरोना वायरस का संक्रमण में तेजी से होने की आशंकाओं को नकारते हुए कहा कि अब तक के अध्ययनों में इस तरह की कोई बात सामने नहीं आई है.

उन्होंने कहा कि वैसे भी इस वायरस का प्रसार हवा के माध्यम से नहीं होता है. इसके संक्रमण का खतरा जीव जनित होता है. इसमें मरीजों अथवा संक्रमित जीवों के संपर्क में आने से इसके संक्रमण का खतरा अधिक होता है. डॉ भार्गव ने आगे ये भी जानकारी दी कि ठंडक बढ़ने से लोगों को सर्दी, जुकाम और बुखार जैसी व्याधियों से बचने की सलाह देने के साथ ही वे सभी एहतियाती उपाय अपनाने का परामर्श दिया है जिनके कारण शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बरकरार रहती है.

आपको बता दें कि हिमालय क्षेत्र में बुधवार को मौसम में परिवर्तन आने के कारण गुरुवार को पंजाब, हरियाणा और दिल्ली एनसीआर के साथ साथ उत्तर पश्चिमी इलाकों में तेज बारिश होने के कारण अधिकतम तापमान में तीन से चार डिग्री की गिरावट आयी है. बताते चलें कि गुरुवार देर शाम मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में 30 से 40 किमी प्रतिघंटे की गति से तेज हवायें चलने से दिन के औसत तापमान में तेजी से गिरावट दर्ज की गयी थी।