Categories
Other

लॉकडाउन को लेकर WHO ने दी चेतावनी, कहा- ‘पाबंदियां हटाई गईं तो…’

कोरोना के कहर से दुनियाभर में करीब 16 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं. आपको बता दें कि सबसे ज्यादा प्रभावित चीन, इटली और स्पेन जैसे देश हैं. वहीं बात करें भारत की तो यहां कोरोना वायरस के मामलों दिन पर दिन बढ़ते ही जा रहे है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक अब तक मरीजों की संख्या 8000 के पार पहुंच चुकी है.

संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र से सामने आ रहे हैं. इसी बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने पाबंदियों और लॉकडाउन को लेकर दुनिया भर को चेतावनी दी है. कोरोना से बचने के लिए पीएम मोदी ने 21 दिनों के लिए लगाया गया था जो की 14 अप्रैल को खत्म हो जाएगा. आज देश में संपूर्ण लॉकडाउन का 19वां दिन है. यानी अगले हफ्ते की मंगलवार को ये खत्म हो रहा है. इस समय लॉकडाउन की चर्चा तेज है कि क्या इसे फिर से बढ़ाया जाएगा.

इसी बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन ने शुक्रवार को चेतावनी दी है कि अगर कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लगाई गई पाबंदियां जल्दबाजी में खत्म की गईं तो इसके घातक परिणाम हो सकते हैं. WHO प्रमुख टेड्रोस एडहानोम घेब्रेयासस ने जिनेवा में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि हर किसी की तरह WHO भी पाबंदियां खत्म होते देखना चाहता है. लेकिन, जल्दबाजी में पाबंदियां खत्म करने से घातक परिणाम हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि हमें इससे सही तरीके से निपटना होगा.

भारत में बढ़ सकता है लॉकडाउन? 

भारत सरकार अभी मंथन की मुद्रा में है कि लॉकडाउन को 14 अप्रैल से आगे बढ़ाया जाए या नहीं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ 11 अप्रैल को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर ताजा हालात पर चर्चा की, जिसमें लॉकडाउन को लेकर भी बात हुई.

कई राज्यों ने की बढ़ाने की मांग: 

उत्तर प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, राजस्थान और ओडिशा समेत 10 राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने लॉकडाउन बढ़ाने की जोरदार पैरवी की. हालांकि, केंद्र ने इसे लेकर अभी कोई औपचारिक ऐलान नहीं किया है, लेकिन राज्यों में लॉकडाउन बढ़ाने की होड़ लग गई. वहीं ओडिशा ने 30 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ाने का ऐलान कर दिया है. इसके बाद पंजाब, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल की सरकार ने भी लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने की घोषणा कर दी।