Categories
Other

WHO ने कोरोना संकट को लेकर लोगों को दी चेतावनी, बोले- ‘महामारी का खात्मा अभी…’

पूरी दुनिया में कोरोना वायरस का कहर जारी है.देश में महामारी कोरोना वायरस से संकट दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है. अब तक कोरोना वायरस से मरीजों की संख्या 28000 के पार पहुंच चुकी है. वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक अब तक देश में इसके 28892 केस सामने आ चुके हैं. साथ ही 886 लोगों की इससे मौत हो चुकी है. इसमें से 6868 लोगों का सफलतापूर्वक इलाज किया जा चुका है. आपको बता दें कि देश में अभी लॉकडाउन का दूसरा चरण चल रहा है और इसे 3 मई के बाद आगे बढ़ाया जा सकता है.

कोरोना के इस बढ़ते खतरे के बीच WHO ने बड़ी चेतावनी दी है. WHO के महानिदेशक ने कहा कि पूर्वी यूरोप, लैटिन अमेरिका और कुछ एशियन देशों में कोरोना का बढ़ता संक्रमण चिंता का विषय है. यूरोपीय देशों में लॉकडाउन में ढील देने को लेकर WHO ने कहा कि कोरोना महामारी का खात्मा अभी दूर है. अफ्रीका, पूर्वी यूरोप, लैटिन अमेरिका और कुछ एशियन देशों में कोरोना संक्रमण का बढ़ना चिंता की बात है.

WHO के डीजी ने साफ कहा कि इन देशों में टेस्टिंग कैपेसिटी बेहद कम है जिसके कारण मृतकों और बीमार लोगों का सही आंकडा पता चल पाना काफी कठिन है. WHO ने इबोला वायरस के दौरान वैक्सीन बनाने में महत्वपूर्ण रोल निभाया था और ऐसा ही हम कोविड-19 के मामले में करने वाले हैं. उन्होंने कहा कि इससे पहले भी हम लोग और हमारे सहयोगी कई तरह के वायरस के लिए वैक्सीन बना चुके हैं.

डीजी ने कहा कि हमें उम्मीद है कि जल्द ही कोविड-19 के लिए भी वैक्सीन तैयार कर ली जाएगी. कोविड-19 के कारण बहुत लोगों की जान गई है और WHO को इसके लिए दुख है, खास तौर पर बच्चों को जो भी नुकसान हुआ है उसके लिए.

आपको बता दें कि कोरोना के मरीजों की संख्या 30 लाख को पार कर गई है. वहीं मरने वाले लोगों की संख्या 2 लाख के पार चली गई है. भारत में तीन मई तक लॉकडाउन है. इसके बाद भी मौत का आंकडा बढ़ रहा है. खबर लिखे जाने तक भारत में पीड़ित मरीजों का आंकडा 28 हजार के पार है वहीं मृतकों की संख्या भी हो चुकी है. ऐसा माना जा रहा है कि अगर लॉकडाउन नहीं हुआ होता तो ये आंकडा काफी बढ़ सकता था.